Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

दावेदारी की जंग: पीएम मोदी और सीएम नीतीश ने गिरिराज सिंह को क्यों दी इतनी तरजीह?

  • अपने संबोधन में पीएम और सीएम ने राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा का नहीं लिया नाम

  • चर्चाओं की रसोई में अब पकने लगी है बेगूसराय संसदीय क्षेत्र से दावेदारी की खिचड़ी

दावेदारी की जंग
समाचार विचार/बेगूसराय: बेगूसराय जिला भाजपा का अंतर्कलह किसी से नहीं छिपा है।दावेदारी की जंग दो तीन कद्दावर नेताओं के इर्द गिर्द घूमती भाजपा के क्षोभ, विक्षोभ और अंतर्कलह की राजनीति आखिरकार सार्वजनिक चर्चा का विषय बन ही गई, जब बेगूसराय के उलाव एयर स्ट्रिप पर आयोजित जनसभा के दौरान अपने संबोधन में पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम नीतीश कुमार ने मंच पर मौजूद राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा का नाम नहीं लिया। जबकि पीएम और सीएम ने बेगूसराय सांसद गिरिराज सिंह का नाम न केवल अपने संबोधन में लिया बल्कि सीएम नीतीश कुमार ने यहां तक कह डाला कि गिरिराज सिंह तो हमारे पुराने साथी रहे हैं। यहां गौर करने वाली बात यह है कि नीतीश कुमार और गिरिराज सिंह की अदावत जगजाहिर है फिर भी सीएम नीतीश ने पीएम नरेंद्र मोदी के समक्ष गिरिराज सिंह पर लाड़ और प्यार उड़ेल दिया। इतना ही नहीं, पीएम मोदी ने मंच पर बेगूसराय सांसद गिरिराज सिंह से गुफ्तगू करते हुए उन्हें कुछ निर्देशित भी किया, जिसके बाद गिरिराज सिंह कुछ देर के लिए मंच के पीछे भी गए और पुनः लौटकर पीएम मोदी के बगल में आकर बैठ गए। अपने संबोधन में बेगूसराय सांसद गिरिराज सिंह ने श्री बाबू के योगदानों की चर्चा करते हुए पीएम मोदी के द्वारा बेगूसराय के सर्वांगीण विकास के लिए किए जा रहे उल्लेखनीय कार्यों को रेखांकित करते हुए पीएम को विकासपुरुष की संज्ञा दे डाली।
दर्शक दीर्घा में बैठे प्रबुद्ध वर्ग के लोगों को नागवार गुजरी राज्यसभा सांसद की उपेक्षा
हालांकि राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा पीएम के आगमन के कुछ घंटे पूर्व मंच पर कुछ देर के लिए दिखे और उन्होंने उपस्थित जनसमूह से गगनभेदी नारे भी लगवाए। पीएम के आगमन के बाद वे अगली पंक्ति के ठीक पीछे मंचासीन भी दिखे लेकिन गिरिराज सिंह पीएम और सीएम को अपनी ओर आकर्षित करने में सफल साबित हुए। पीएम मोदी ने गिरिराज सिंह, सम्राट चौधरी और विजय कुमार सिन्हा का नाम जरूर लिया लेकिन उनकी जुबान पर राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा का नाम नहीं आया। दर्शक दीर्घा में बैठे प्रबुद्ध लोगों में इस बात की चर्चा को तब और बल मिल गया जब सीएम नीतीश कुमार ने भी अपने धुर विरोधी गिरिराज सिंह को अपना पुराना साथी कह कर संबोधित किया किंतु उन्होंने भी राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा का नाम नहीं लिया। उन्होंने मंच पर मौजूद सांसद गण शब्द का प्रयोग तो जरूर किया लेकिन राकेश सिन्हा का एक बार भी नाम नहीं लिया।
पीएम मोदी और सीएम नीतीश ने गिरिराज सिंह को क्यों दी इतनी तरजीह
चुनावी मौसम में विवादों और कयासों की फसलों का लहलहाना आम बात है। दर्शक दीर्घा में बैठे लोग यह चर्चा करते देखे गए कि भाजपा के हिंदूवादी चेहरा और फायर ब्रांड नेता गिरिराज सिंह न केवल अपने संसदीय क्षेत्र में बल्कि देश के अन्य भागों में भी अपने आक्रामक तेवर के लिए जाने जाते हैं। वहीं आरएसएस की पृष्ठभूमि से आने वाले राज्यसभा सांसद आक्रामक नहीं बल्कि सौम्य स्वभाव के हैं। उनकी सौम्यता उनके आचरण में भी परिलक्षित होती दिखती है जबकि गिरिराज सिंह की आक्रामकता के प्रभाव का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मोदी और नीतीश कुमार के द्वारा जब गिरिराज सिंह का नाम लिया गया तो मंच के ठीक सामने मौजूद गिरिराज सिंह के युवा समर्थकों ने गिरिराज सिंह जिंदाबाद, नरेंद्र मोदी जिंदाबाद के नारों के जयघोष से पीएम का ध्यान अपनी ओर खींच पाने में सफल रहे। इतना ही नहीं कार्यक्रम शुरू होने के घंटों पहले ज्योंहि गिरिराज सिंह अपने ऊर्जावान समर्थकों के साथ सभा स्थल पर पहुंचे, त्योंहि भीड़ स्वस्फूर्त होकर जय श्री राम के नारे लगाने लग गई। सांसद ने मौके को भुनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी और जयघोष के बीच पूरे पांडाल का परिक्रमा लगा लिया। इसके बाद वे मंच की दाहिनी तरफ बने सांस्कृतिक कार्यक्रम के मंच पर भी पहुंच गए और नगर विधायक कुंदन कुमार के साथ वहां भी जोरदार भाषण देते हुए भीड़ को अपने वश में करने की हरसंभव कोशिश कर डाली। वे कार्यक्रम के मुख्य मंच पर भी आकर्षण का केंद्र बने रहे लेकिन राकेश सिन्हा अपना प्रभावी स्पेस बना पाने में बिलकुल नाकाम साबित हुए।
चर्चाओं के रसोई में अब पकने लगी है बेगूसराय संसदीय क्षेत्र से दावेदारी की खिचड़ी
पीएम मोदी और सीएम नीतीश कुमार ने गिरिराज सिंह को इतनी तरजीह क्यों दी; इसकी विवेचना राजनीतिक विश्लेषकों के जिम्मे है लेकिन इतना तो अब साफ हो गया है कि बेगूसराय संसदीय क्षेत्र से दावेदारी के लिए पूर्व से कमर कसे गिरिराज सिंह और राकेश सिन्हा की गुटबंदी अब और तेज होगी। भाजपा आलाकमान चाहे जो भी फैसला ले लेकिन कल की जनसभा में गिरिराज सिंह का पलड़ा भारी पड़ता दिखा है।

Trending News Today

📌 सौगात: पीएम मोदी ने हिंदुस्तान को बेगूसराय से दिया ऐतिहासिक तोहफा

📌 इस लिंक पर क्लिक कर देखें पीएम मोदी के कार्यक्रम की झलकियां

 


 

Leave a Comment

Share this post:

खबरें और भी हैं...

लाइव टीवी

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

Quick Link

© 2023 Reserved | Designed by Best News Portal Development Company - Traffic Tail