Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

तबाह हुए अन्नदाता: तेघड़ा और भगवानपुर में अग्निदेव ने किसानों पर बरपाया कहर

तबाह हुए अन्नदाता
  • इसे पहचान लीजिए
  • कई गांवों के लगभग सौ बीघा खेत में लगी गेहूं की फसल जलकर हुई राख 

  • स्थानीय लोगों और जनप्रतिनिधियों ने सरकार से की है मुआवजा देने की मांग 

तबाह हुए अन्नदाता
समाचार विचार/तेघड़ा/भगवानपुर/बेगूसराय: ग्रीष्म ऋतु के आगमन के साथ ही तबाह हुए अन्नदाता और जिले के विभिन्न इलाकों में अग्निदेव ने कहर बरपाना शुरू कर दिया है। इसी कड़ी में उत्तर तेघड़ा के चिल्हाई पंचायत के चौर में रविवार की दोपहर लगभग 1:30 बजे गेहूं की तैयार फसलों में लगी भीषण आग ने कई बीघा खेत को जलाकर राख कर दिया। तेघड़ा थाना अंतर्गत चिल्हाय पंचायत और भगवानपुर प्रखंड के दहिया रसलपुर गांवों के चौर में गेहूं की फसलें भीषण आग का शिकार हो गईं। तेज हवा के कारण आग बहुत तेजी से बढ़ती गई और कई बीघा जमीन में फैली फसलों को तबाह कर गई। आग लगने की खबर सुनते ही स्थानीय मुखिया अरविंद कुमार महतो ने यह जानकारी प्रखंड विकास पदाधिकारी राकेश कुमार एवं अनुमंडल अग्निशमन पदाधिकारी रविंद्र कुमार को दिया। सूचना मिलते ही प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं अग्निशमन पदाधिकारी की तत्परता के कुछ ही देर बाद आग बुझाने को लेकर अग्निशमन की छह गाड़ी पहुंची। स्थानीय लोगों एवं अग्निशमन विभाग के कर्मियों के लगातार 2 घंटा से अधिक समय के भारी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया। स्थानीय मुखिया अरविंद कुमार महतो एवं ग्रामीणों का कहना है कि तेज़ हवा के कारण आग बहुत तेज़ी से बढ़ती गई और कई बीघा जमीन में फैली फसलों को तबाह कर गई जिससे किसानों को लाखों का नुकसान हुआ है।
स्थानीय लोगों और जनप्रतिनिधियों ने सरकार से की है मुआवजा देने की मांग 
स्थानीय लोगों ने बताया कि जब आग लगी तो उसकी लपट लगभग एक किलोमीटर दूर थी लेकिन देखते ही देखते काफी पास आ गई। आग इतनी तेज़ी से बढ़ रही थी कि उसे बुझाने का प्रयास जब तक संभव हुआ तब तक 50 से 60 बीघा गेहूं की फसल जलकर राख हो गई। अगलगी की इस घटना में  भगवानपुर प्रखंड के किसानों का लगभग 20 बीघा एवं तेघड़ा के किसानों का 40 बीघा गेहूं का फसल जला है। फायर ब्रिगेड की गाड़ी जब मौके पर पहुंची तब तक आग काफी हद तक नुकसान कर चुकी थी। खेतों में आग कैसे लगी, इसके बारे में किसी को स्पष्ट जानकारी नहीं है। चिल्हाई पंचायत निवासी सुजीत कुमार उर्फ दीपू राय ने 10 बीघा जमीन पर गेहूं की खेती की थी, जो पूरी तरह से जलकर राख हो चुकी है। उन्होंने बताया कि उनकी लगाई हुई फसल पक चुकी थी, एक दिन बाद उसकी कटाई होनी थी लेकिन उससे पहले यह हादसा हो गया। विदित हो कि अधिकतर खेत बड़े और लघु किसान के हैं। लेकिन उसमें फसल लगाने वाले अधिकतर बटाईदार छोटे किसान हैं, जो पूरी तरह से बर्बाद हो गए हैं। मुआवजा लेने के लिए जमीन के कागज की जरूरत होती है, ऐसे में बटाई पर खेत लेने वाले किसान कागज कहां से लाएंगे। सरकार को फसल लगाने वाले किसानों को चिन्हित कर उन्हें सरकारी मुआवज़ा देना चाहिए। इस भीषण आग ने किसानों के अलावा फसल काटने वाले मजदूरों के लिए भी अकाल जैसी समस्या उत्पन्न कर दी है। हर साल स्थानीय मजदूर सैकड़ो एकड़ में लगी फसल काटते थे जिसके बदले उन्हें साल भर के लिए अनाज मिलता था। खेतों में आग लग जाने से मज़दूरों के जीवनयापन के लिए भी अनाज नहीं बचा है। आग की घटना पर स्थानीय विधायक राम रतन सिंह ने इस घटना को दुखद बताते हुए उक्त स्थल पर पहुंचे अंचल अधिकारी रवि शंकर कुमार एवं अंचल निरीक्षक चंद्रदेव चौधरी से किसानों की हुई क्षति का आकलन करते हुए उचित मुआवजा दिलाने को कहा है।

भगवानपुर में भी लगभग 45 बीघा जमीन में लगी गेहूं की फसल जलकर राख 

तबाह हुए अन्नदाता

हमारे भगवानपुर संवाददाता ने बताया कि प्रखंड के रसलपुर पंचायत के गंडाहा जगता बहिया में रविवार को आग लगने से लगभग 45 बीघे खेत में लगी गेहूं की फसल जलकर स्वाहा हो गई। आग लगने के कारणों को का पता नही चल सका है। अगलगी की सूचना मिलने पर तेघरा थाना क्षेत्र के चिल्हाय एवं भगवानपुर थाना क्षेत्र के औगान रसलपुर गाँव के हजारों ग्रामीण आग बुझाने में लग गए। ग्रामीणों एवं फायर बिग्रेड के सहयोग से काफी मशक्कत से आग पर घंटो बाद काबू पाया गया। तब तक लगभग खेत में लगे कई बीघे गेंहू की फसल एवं भूसा का ढेर जल कर राख हो गया। अगर समय रहते आग पर काबू नही पाया जाता तो और व्यापक क्षति होने की संभावना थी। औगन निवासी राम सोगारथ चौधरी, कुमोद चौधरी, प्रहलाद चौधरी, पंकज चौधरी ,शिवशंकर चौधरी, सुनील चौधरी, शंभू चौधरी, राधेश्याम चौधरी ,रसलपुर निवासी सागर पासवान आदि का लगभग 25 से 30 बीघे खेत में लगी गेंहू फसल जल गई। इधर सीओ रानू कुमार ने बताया कि लगभग 25 किसानों का 25 से तीस बीघा गेंहू के फसल के जलने का अनुमान है। दूसरी और चिल्हाय के किसान राज कुमार राय ने बताया कि चिल्हाय के बच्चा सिंह, रामबिलास राय, गौरीशंकर राय, रामाश्रय राय, भोला राय, रामयतन राय, सुबोध राय आदि का लगभग 21बीघा गेंहू की फसल जलकर राख हो गई है। किसानों ने सरकार से मुआवजे मांग की है।

🎯लापरवाही: डीपीओ स्थापना की मनमानी से बढ़ गई है शिक्षकों की परेशानी

🎯कल ही पॉवर हाउस में हुए अग्निकांड में हुई थी लाखों की क्षति

 

 

Leave a Comment

Share this post:

खबरें और भी हैं...

लाइव टीवी

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

Quick Link

© 2023 Reserved | Designed by Best News Portal Development Company - Traffic Tail